Latest Dard bhari shayari-दर्द भरी शायरी

When someone’s heart is in a lot of pain, their emotions come out in the form of dard shayari

All dard bhari shayari have been updated with Hindi and English fonts and HD images. So, without limitation, enjoy all pyar ka dard shayari.

Hindi-Shayar.org page has popular website because of the large collection of 2 line dard bhari shayari with images for life. So, visit hindi-shayar.org on a daily basis to read the most recent dard shayari. If you want to read other shayari, such as sad shayari or love shayari, please go to the listing section and read your preferred shayari.

𝐓𝐞𝐫𝐞 𝐀𝐢𝐬𝐞 𝐒𝐚𝐜𝐡𝐞 𝐀𝐚𝐬𝐡𝐢𝐪 𝐇𝐚𝐢 𝐇𝐮𝐦
𝐃𝐢𝐥 𝐌𝐞 𝐉𝐢𝐬𝐤𝐞 𝐏𝐲𝐚𝐫 𝐍𝐚 𝐇𝐨 𝐊𝐚𝐛𝐡𝐢 𝐊𝐮𝐦
𝐒𝐚𝐜𝐡𝐞 𝐏𝐲𝐚𝐫 𝐌𝐞 𝐓𝐨 𝐙𝐢𝐧𝐝𝐚𝐠𝐢 𝐌𝐞𝐡𝐚𝐤 𝐉𝐚𝐭𝐢 𝐇𝐚𝐢
𝐍𝐚 𝐉𝐚𝐧𝐞 𝐇𝐦𝐚𝐫𝐢 𝐀𝐚𝐧𝐤𝐡𝐞 𝐊𝐲𝐮 𝐇𝐚𝐢 𝐍𝐚𝐦

तेरे ऐसे सच्चे आशिक़ है हम
दिलमे जिसके प्यार न हो कभी कम
सच्चे प्यार में तो ज़िन्दगी महक जाती है
ना जाने हमारी आँखे क्यों है नम

𝐓𝐮𝐦𝐤𝐨 𝐋𝐞𝐤𝐚𝐫 𝐌𝐞𝐫𝐚 𝐊𝐡𝐚𝐲𝐚𝐥 𝐍𝐚𝐡𝐢 𝐁𝐚𝐝𝐥𝐞𝐠𝐚
𝐒𝐚𝐚𝐥 𝐁𝐚𝐝𝐥𝐞𝐠𝐚 𝐌𝐚𝐠𝐚𝐫 𝐃𝐢𝐥 𝐊𝐚 𝐇𝐚𝐚𝐥 𝐍𝐚𝐡𝐢 𝐁𝐚𝐝𝐥𝐞𝐠𝐚
तुमको लेकर मेरा ख्याल नही बदलेगा
साल बदलेगा मगर दिल का हाल नहीं बदलेगा

𝐉𝐚𝐤𝐡𝐚𝐦 𝐇𝐢 𝐃𝐞𝐧𝐚 𝐓𝐨 𝐏𝐮𝐫𝐚 𝐉𝐢𝐬𝐦 𝐓𝐞𝐫𝐞 𝐇𝐮𝐰𝐚𝐥𝐞 𝐓𝐡𝐚
𝐁𝐞𝐫𝐚𝐡𝐚𝐦 𝐓𝐮𝐧𝐞 𝐖𝐚𝐚𝐫 𝐊𝐢𝐲𝐚 𝐖𝐨 𝐁𝐡𝐢 𝐃𝐢𝐥 𝐇𝐢 𝐖𝐚𝐚𝐫 𝐊𝐢𝐲𝐚
जख्म ही देना तो पूरा जिस्म तेरे हवाले था
बे रहम तूने वार क्या वो भी दिल ही वार क्या

𝐍𝐳𝐚𝐫 𝐀𝐮𝐫 𝐍𝐚𝐬𝐞𝐞𝐛 𝐌𝐞 𝐁𝐡𝐢 𝐊𝐲𝐚 𝐈𝐭𝐭𝐞𝐟𝐚𝐪 𝐇𝐚𝐢
𝐍𝐚𝐳𝐚𝐫 𝐔𝐬𝐞 𝐇𝐢 𝐏𝐬𝐚𝐧𝐝 𝐊𝐚𝐫𝐭𝐢 𝐇𝐚𝐢 𝐉𝐨 𝐍𝐚𝐬𝐡𝐞𝐞𝐛 𝐌𝐞 𝐍𝐡𝐢 𝐇𝐨𝐭𝐚
नज़र और नसीब में भी क्या इत्तफ़ाक़ है
नज़र उसे ही पसंद करती है जो नसीब में नही होता

𝐊𝐚𝐥 𝐑𝐚𝐚𝐭 𝐖𝐨 𝐒𝐡𝐚𝐤𝐬 𝐌𝐞𝐫𝐞 𝐊𝐡𝐮𝐰𝐚𝐛𝐨 𝐊𝐚 𝐁𝐡𝐢 𝐊𝐚𝐭𝐚𝐥 𝐊𝐚𝐫 𝐆𝐚𝐲𝐚
𝐋𝐨𝐠 𝐊𝐢𝐭𝐧𝐚 𝐌𝐮𝐪𝐚𝐚𝐦 𝐑𝐚𝐤𝐡𝐭𝐞 𝐇𝐚𝐢 𝐂𝐡𝐨𝐝 𝐉𝐚𝐧𝐞 𝐊𝐞 𝐁𝐚𝐚𝐝
कल रात वो शख्स मेरे खवाबो का भी काटल कर गया
लोग कितना मुक़ाम रखते है छोड़ जाने के बाद

𝐊𝐢𝐭𝐧𝐚 𝐌𝐮𝐬𝐡𝐤𝐢𝐥 𝐇𝐚𝐢 𝐌𝐨𝐡𝐚𝐛𝐛𝐚𝐭 𝐊𝐢 𝐊𝐚𝐡𝐚𝐧𝐢 𝐋𝐢𝐤𝐡𝐧𝐚
𝐉𝐚𝐢𝐬𝐞 𝐏𝐚𝐧𝐢 𝐒𝐞 𝐏𝐚𝐧𝐢 𝐏𝐞 𝐏𝐚𝐧𝐢 𝐋𝐢𝐤𝐡𝐧𝐚
कितना मुश्किल है मोहब्बत की कहानी लिखना
जैसे पानी से पानी पे पानी लिखना

𝐌𝐢𝐥𝐭𝐚 𝐁𝐡𝐢 𝐍𝐚𝐡𝐢 𝐓𝐮𝐦𝐡𝐚𝐫𝐞 𝐉𝐚𝐢𝐬𝐞 𝐈𝐬 𝐒𝐚𝐡𝐞𝐫 𝐌𝐚𝐧
𝐇𝐮𝐦𝐤𝐨 𝐊𝐲𝐚 𝐌𝐚𝐥𝐨𝐨𝐦 𝐓𝐡𝐚 𝐊𝐢 𝐓𝐮𝐦 𝐁𝐡𝐢 𝐊𝐢𝐬𝐢 𝐀𝐮𝐫 𝐊𝐞 𝐇𝐨
मिलता भी नहीं तुम्हारे जैसे इस शहर में
हमको क्या मालूम था के तुम भी किसी और के हो

𝐁𝐡𝐮𝐭 𝐙𝐮𝐝𝐚 𝐇𝐚𝐢 𝐀𝐮𝐫𝐨𝐧 𝐒𝐞 𝐌𝐞𝐫𝐞 𝐃𝐚𝐫𝐝 𝐊𝐢 𝐊𝐚𝐡𝐚𝐧𝐢
𝐙𝐚𝐤𝐡𝐦 𝐊𝐚 𝐊𝐨𝐢 𝐍𝐢𝐬𝐡𝐚𝐧 𝐍𝐚𝐡𝐢 𝐀𝐮𝐫 𝐃𝐚𝐫𝐝 𝐊𝐢 𝐊𝐨𝐢 𝐈𝐧𝐭𝐡𝐚 𝐍𝐡𝐢
बहुत जुदा है औरों से मेरे दर्द की कहानी
ज़ख्म का कोई निशान नहीं और दर्द की कोई इंतहा नही

𝐖𝐨 𝐌𝐮𝐣𝐡𝐞 𝐒𝐞 𝐁𝐢𝐜𝐡𝐝𝐚 𝐓𝐨 𝐉𝐚𝐢𝐬𝐞 𝐁𝐢𝐜𝐡𝐚𝐝 𝐆𝐚𝐲𝐢 𝐙𝐢𝐧𝐝𝐠𝐢
𝐌𝐚𝐢𝐧 𝐙𝐢𝐧𝐝𝐚 𝐓𝐨 𝐇𝐨𝐨𝐧 𝐏𝐚𝐫 𝐙𝐢𝐧𝐝𝐚 𝐍𝐚𝐡𝐢 𝐑𝐚𝐡𝐚
वो मुझे से बिछड़े तो जैसे बिछड़ गयी ज़िन्दगी
मैं ज़िंदा तो हूँ पर ज़िंदा नहीं रहा

Leave a Comment