Propose Shayari – Kasoor To Tha Hi In Nigaaho Ka

कसूर तो था ही इन निगाहो का

जो चुपके से दीदार कर बैठे

हम तो खामोस रहने की ठानी थी

पर बेवफा ये ज़ुबान इज़हार कर बैठी

Kasoor To Tha Hi In Nigaaho Ka

Joh Chupke Se Deedar Kar Baithe

Humne To Khamos Rehne Ki Thani Thi

Par Bewafa Ye Zubar\N Izhar Kar Baithi

 

Leave a Comment